West Bengal

कश्मीरी छात्रों की मदद को आगे आए एसएफआई छात्रों को धमकी

कश्मीरी छात्रों की मदद को आगे आए एसएफआई छात्रों को धमकी
कोलकाता, 08 अगस्त (हि.स.)। केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करने के बाद कोलकाता में रह रहे कश्मीरी छात्रों की मदद के लिए सामने आए वामपंथी छात्र संगठन स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) के छात्रों को कथित तौर पर धमकी दी गई है। एसएफआई के छात्र नेता देवराज देवनाथ में “हिन्दुस्थान समाचार” से बातचीत में गुरुवार को यह जानकारी दी।
छात्र नेता देवराज ने बताया कि मंगलवार को उनके संगठन की ओर से कोलकाता में रहने वाले कश्मीरी छात्रों की मदद के लिए सोशलसाइट्स पर एक पोस्टर रिलीज किया गया था, जिसमें दो छात्राओं और दो छात्रों का नंबर जारी किया गया था। कश्मीरी छात्रों की मदद के लिए जारी किए गए इन नंबर पर लगातार अज्ञात नंबरों से फोन आ रहे हैं। देवराज ने बताया कि वर्तमान राजनीतिक हालात की वजह से मुश्किल में पड़ने वाले कश्मीरी छात्रों की मदद के लिए ये नंबर जारी किए गए हैं लेकिन इस पर अज्ञात लोग फोन कर रहे हैं और छात्रों को अपना नंबर सोशल साइट से हटाने की धमकी दे रहे हैं। फोन करने वाले कह रहे हैं कि कश्मीरी छात्रों की मदद करने वालों को छोड़ा नहीं जाएगा। उन्होंने दावा किया कि उन्हें “हिंदू राष्ट्र” का जयकारा लगाने के लिए भी दबाव बनाया गया है। देवराज ने इसके लिए भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाया। हालांकि जब उनसे पूछा गया कि बिना जांच आप भारतीय जनता पार्टी पर कैसे सवाल खड़ा कर रहे हैं, तब उन्होंने कहा कि भाजपा के अलावा ऐसा दूसरा कोई नहीं कर सकता। कश्मीरी छात्रों की मदद के लिए जारी किए गए नंबरों में फिलॉस्फी की छात्रा उशशि पाल का भी नंबर है। उन्हें भी “+30104” और “+5044” के नंबर से फोन आया है। फोन करने वाले उनसे पूछ रहे हैं कि क्या वह कश्मीरी छात्रों से शादी करने वाली हैं। उशशि ने कहा कि साधारण लोग इस तरह का नंबर इस्तेमाल नहीं करते। जाहिर सी बात है कि सोची समझी साजिश के तहत ऐसा किया गया है। देवराज ने कहा कि फोन करने वाले उन्हें डराना धमकाना चाहते हैं लेकिन वह डरने वाले नहीं हैं। कश्मीरी छात्रों की मदद करते रहेंगे। उनके नंबरों पर लगातार आ रहे फोन के खिलाफ यादवपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।
Print Friendly, PDF & Email
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close