West Bengal

राजीव कुमार पर नहीं हुआ फैसला, सोमवार को भी होगी सुनवाई

राजीव कुमार पर नहीं हुआ फैसला, सोमवार को भी होगी सुनवाई
 
कोलकाता, 27 सितम्बर . हजारों करोड़ रुपये के सारदा पोंजी घोटाला मामले में आरोपितों को बचाने के लिए साक्ष्यों को मिटाने के आरोपित कोलकाता पुलिस के पूर्व आयुक्त राजीव कुमार की अग्रिम जमानत पर शुक्रवार को भी फैसला नहीं हो सका। मामले में आज तीसरे दिन की सुनवाई बंद कमरे में न्यायमूर्ति शहीदुल्लाह मुंशी और शुभाशीष दासगुप्ता की खंडपीठ में पूरी हुई। बुधवार से इस मामले पर लगातार सुनवाई चल रही है। 
गुरुवार को राजीव कुमार के अधिवक्ताओं ने खंडपीठ के समक्ष जिरह पूरा किया था जिसके बाद शुक्रवार को सीबीआई के अधिवक्ताओं को अपना पक्ष रखना था। उम्मीद की जा रही थी कि इस पर शुक्रवार को ही फैसला आ सकता है लेकिन सुबह के समय जैसे ही कोर्ट खुला सुनवाई तो शुरू हुई। सीबीआई के अधिवक्ता वाई जे दस्तूर ने राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका का विरोध किया। उन्होंने कहा कि यह आर्थिक अपराध का बहुत बड़ा मामला है और राजीव कुमार मुख्य कड़ी हैं। उन्हें जमानत मिलने पर जांच प्रभावित होगी। इसके अलावा पिछले सप्ताह शनिवार को अलीपुर कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका को खारिज करते हुए कहा था कि राजीव कुमार को तत्काल हिरासत में लेकर पूछताछ किया जाना जरूरी है। इसका भी जिक्र सीबीआई के अधिवक्ताओं ने खंडपीठ के समक्ष किया है। सीबीआई पक्ष को सुनने के बाद न्यायमूर्ति ने सोमवार का दिन अगली सुनवाई के लिए मुकर्रर किया है। न्यायालय सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि उस दिन खंडपीठ अपना फैसला सुना सकता है।
उल्लेखनीय है कि शनिवार को अलीपुर कोर्ट में कुमार की अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद उनकी पत्नी संचिता कुमार ने सोमवार को हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत की याचिका लगाकर तत्काल सुनवाई की मांग की थी। मंगलवार को उनकी याचिका को सुनवाई के लिए स्वीकार करते हुए कोर्ट ने कहा था कि इस पर तत्काल सुनवाई की जरूरत नहीं है। राजीव कुमार को सीबीआई के सामने सरेंडर करना चाहिए। उसके बाद बुधवार से लगातार सुनवाई चल रही है। राजीव कुमार के अधिवक्ताओं के आवेदन पर बंद कमरे में इस मामले की सुनवाई चल रही है, जिसकी वजह से मीडिया को अनुमति नहीं दी जा रही।
इधर राजीव कुमार की तलाश में सीबीआई की टीम मैराथन छापेमारी कर रही है। कुमार फिलहाल राज्य सीआईडी के एडीजी हैं और उनकी छुट्टी भी 25 सितम्बर को ही खत्म हो चुकी है। कायदे से उन्हें गुरुवार को ड्यूटी ज्वाइन करना था लेकिन वह कोलकाता के भवानी भवन स्थित सीआईडी मुख्यालय में नहीं पहुंचे। उनकी तलाश में सीबीआई के चार अधिकारियों ने भवानी भवन में जाकर उनकी खोज खबर ली थी। शुक्रवार को भी सीबीआई की टीम ने अलग-अलग जगहों पर निगरानी रखी है ताकि राजीव कुमार को दबोचा जा सके।
Print Friendly, PDF & Email
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close