Region

शिवाजी महाराज के नाम पर राजनीति बंद करे शिवसेना: उदयन राजे भोसले

शिवाजी महाराज के नाम पर राजनीति बंद करे शिवसेना: उदयन राजे भोसले
मुंबई, 14 जनवरी । पूर्व सांसद उदयन राजे भोसले ने शिवसेना सहित अन्य दलों को नसीहत दी है कि उनके पूर्वज छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर वे राजनीति चमकाना बंद कर दें। उदयन राजे ने कहा कि अगर ऐसा नहीं किया गया तो सूबे की जनता ही उनकी धुलाई करेगी। इसके बाद अगर वे हमारे पास आए तो हम उनकी नहीं सुनेंगे।
उदयन राजे ने पुणे में मंगलवार को पत्रकार वार्ता में सभी राजनीतिक दलों पर छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर सिर्फ राजनीति करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अगर छत्रपति के विचार व आचार इन लोगों ने अपनाया होता तो देश में भुखमरी नहीं रहती। महाराष्ट्र का निर्माण हुए 60 साल हो गए लेकिन समस्याएं पूर्ववत हैं। उदयन राजे ने कहा कि अगर राजशाही रहती तो यह स्थिति नहीं रहती। प्रजा का पालन करने की जिम्मेदारी शासक की होती है लेकिन इस समय सभी दल के नेता सिर्फ सत्ता तक ही सीमित रह गए हैं। उदयन राजे ने कहा कि जयभगवान गोयल ने उनके पूर्वज छत्रपति शिवाजी महाराज की एक राजनेता से तुलना करते हुए पुस्तक लिखी थी। इस पर विवाद होने पर लेखक ने पुस्तक वापस ले ली है। उदयन राजे ने इसकी निंदा की है। इसी तरह जाणता (जानकार) राजा किसी को भी नहीं कहा जा सकता है। वह तो सिर्फ छत्रपति शिवाजी महाराज ही हैं।
उदयन राजे भोसले ने इशारों-इशारों में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार की भी आलोचना की। उदयन राजे भोसले ने दादर में शिवसेना भवन का फोटो दिखाते हुए कहा कि शिवसेना ने बालासाहेब ठाकरे के फोटो के नीचे छत्रपति शिवाजी महाराज का फोटो लगाया है लेकिन उन्होंने कभी भी इसकी आलोचना नहीं की। इसी प्रकार भिवंडी सहित अन्य दंगों में शिवसेना की जांच की जा चुकी है। इस दल के नेता शिव वड़ापाव जैसी योजना चलाए और महाशिवआघाड़ी से शिव शब्द गायब कर दिया, फिर भी हम नहीं बोले थे। उदयन राजे भोसले ने शिवसेना प्रवक्ता संजय राऊत का बिना नाम लिये कहा कि शिवसेना का नामकरण करते समय क्या उनके वंशजों से पूछे थे? उदयन राजे ने कहा कि छत्रपति शिवाजी महाराज के सभी वारिश हैं लेकिन सभी को उनके विचारों के अनुरूप अपना आचरण रखना चाहिए। इस समय सभी राजनीतिक दल सिर्फ वोट लेने के लिए छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम का उपयोग करते हैं और सत्ता मिलने के बाद अपनी तिजोरी भरते हैं।
उल्लेखनीय है कि जयभगवान गोयल की पुस्तक ‘आज का शिवाजी: नरेंद्र मोदी’ पर प्रतिबंध लगाने की मांग शिवसेना प्रवक्ता संजय राऊत ने की थी। उस समय संजय राऊत ने कहा था कि छत्रपति शिवाजी महाराज के वंशज इसपर चुप क्यों हैं। संजय राऊत की इसी बयानबाजी का जवाब देते हुए उदयन राजे भोसले ने शिवसेना राकांपा सहित सभी राजनीतिक दलों पर निशाना साधा है। उदयन राजे भोसले ने कहा कि शिव स्मारक बनाने का वादा किया गया था, जो अब तक नहीं बन सका है। इस अवसर पर उदयन राजे ने कहा कि वह सांसद पद से इस्तीफा दे चुके हैं और आजाद हैं। उनका लक्ष्य सिर्फ जनसेवा तक ही सीमित रह गया है।
Print Friendly, PDF & Email
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close